Home साहित्य

साहित्य

    कविता: मेरा गांव, मेरा जीवन

    0
    गांव तेरे गोद में बचपन सुहाना बीत गयाचंद गलिया और अपनों में दिन पुराना बीत गयापनघटों पर भरती गगरी और रात की लोरियाऐसी जिंदगी...

    जन्मतिथि विशेष- राही मासूम रज़ा को कितना जानते है आप?

    0
    राही मासूम रज़ा का जन्म ग़ाज़ीपुर जिले के ही गंगौली गांव में हुआ था और प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा गंगा किनारे गाजीपुर शहर के एक मुहल्ले में हुई...

    कविता: तुम मेरी पुकार हो माँ – बालानाथ राय

    0
    तुम मेरी पुकार हो माँ ज्ञान की भण्डार हो माँविद्वानों की जननी हो माँतुम मेरी पुकार हो माँसदैव मेरे साथ रहा करो माँअज्ञानियों को ज्ञान...

    ऐसा क्या ? हजारो नौजवान संग, बच्चे, मजदूर, किसान, बूढ़े सब उतरे सड़क पर

    0
    बाराचवर (गाजीपुर): पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले में हुए शहीदों के सम्मान में बाराचवर रामलीला मैदान से शहीद शौर्य सम्मान तिरंगा यात्रा निकाली गयी...

    भव्य वार्षिकोत्सव में बच्चों ने मचाया धूम

    0
    मुहम्मदाबाद: रिवरडेल ग्लोबल स्कूल जयनगर कुण्डेसर का वार्षिकोत्सव विद्यालय के प्रांगण में बच्चों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ भब्य रूप से मनाया गया।...

    कविता : रात धीरे-धीरे

    0
    रात धीरे-धीरेरात धीरे-धीरे दीवार फाँद गई,चाँद मेरी छत से होकर गुज़र गयाजुगनुओं का शोकगीत अब भी जारी है।गर्मागर्म मुद्दों की अलाव जलाकरसर्द सुबहों में...

    कविता: नई नई किताबें

    0
    वैसे तो किताबे हमारी मित्र है I किताबों पर ही बालानाथ राय ने एक कविता लिखी है जिसे आप भी पढ़िए-नई नई किताबे नई नई...

    प्रेम की समझ : कविता

    0
    मेरे इन दोस्तों कोप्रेम शायद समझ आ चुका हैउन्होंने चुन लिया है किसी न किसी कोजीवनभर साथ का हमसफ़रवे कहते हैउन्हें बेतहासा प्रेम हैअपनी...