खास खबर गाजीपुर ताजातरीन राजनीति लेटेस्ट पोस्ट

आरोप: यहां का कोटेदार है चोट्टा, लूटेरा

बाराचवर: पूरा देश कोरोना महामारी से भयंकर तरीके से जूझ रहा है। गरीब लोग, दिहाड़ी मजदूर खाने को तरस रहे हैं। ऐसे में सरकार ने भी कुछ राहत देने वाले फैसले किये हैं। स्वयंसेवी संस्थान, कुछ सोशल कार्यकर्ता, नेतागण भी अपने तरफ से लोगों को राशन, खाना उपलब्ध कराने में लगे हुए हैं।

पिछले दिनों कई कोटेदारों पर एफआईआर दर्ज हुई है लेकिन जिले के कोटेदार अपनी मनमानी से बाज नहीं आएंगे वो लोगों के राशन खाएंगे क्योंकि आदत बनी हुई है इनकी। इन्हें किसी तरह की समस्या से कोई मतलब ही नहीं है। जनता भांड में जाए। इनका पेट बड़ा है राशन खाने से नहीं भरेगा। जबतक कोटा रहेगा इनके पास ये खाते रहेंगे।

ताजा मामला बाराचवर ब्लॉक के अंतर्गत खारा गांव का है। हमारे पास आये हुए तमाम वीडियोज के माध्यम से लोगों ने बताया है कि उनका कोटेदार उनका राशन खाता है, लूटता है। इतना ही नहीं विरोध करने पर कहता है कि जो मन में आये कर लो।

कोटेदार के विरुद्ध गांव के सैकड़ों लोगों ने अजय कुमार सिंह (पूर्व प्रधान एवं जिला महामंत्री श्री राजपूत करनी सेना) शिकायती पत्र एसडीएम कासिमाबाद को सोमवार को दिया है। कुछ वीडियोज के डिटेल्स हम आपको बता रहे हैं। एक कार्ड धारक हैं घुरिया देवी उनके पति चिखुरी कुशवाहा का कार्ड पात्र गृहस्थी का है। वो राशन के लिए अंगूठा तो लगाते हैं लेकिन उन्हें राशन नहीं दिया जाता है।

इसके अलावा एक महिला कार्ड धारक के अनुसार उसका 5 यूनिट है लेकिन उसे सिर्फ 3 यूनित का ही राशन दिया जाता है।
इसके अलावा प्रमोद कुशवाहा बताते हैं कि पहले उन्हें राशन दिया जाता था अब नहीं दिया जाता है। अंगूठा तो वो लगाते हैं लेकिन राशन नाहजन दिया जाता है।

सिकंदर बताते है की कार्ड उनकी माता जी के नाम पर है 35 किलो राशन मिलना चाहिए लेकिन मिलता है सिर्फ 33 किलो हर महीने। उनका भी 2 किलो राशन कोटेदार खाता है।

वहीं एक कार्ड धारक हैं राधिका उनका कार्ड में यूनिट है 9 लेकिन उन्हें कभी 15 किलो तो कभी 20 किलो राशन फ़िया जाता है। ऐसे हमारे पास तमाम वीडियो हैं जिससे कोटेदार पर आरोप तय तो होते ही हैं।

श्री राजपूत करणी सेना के जिलाध्यक्ष वेदप्रकाश सिंह बेदू ने एसडीएम एवं जिला पूर्ति अधिकारी को इसकी सूचना दी है और कहा है कि इस मामले में पूरी श्री राजपूत करणी सेना चुप नहीं बैठेगी यदि विभागीय अधिकारी जरूरी एक्शन नहीं लेंगे तो जमीनी स्तर पर इसकी लड़ाई लड़ी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *