अपराध उत्तर प्रदेश खास खबर ताजातरीन देश राजनीति लेटेस्ट पोस्ट

निर्भया केस: लम्बे इन्तजार के बाद मिला न्याय, चारो दोषियों को दी गयी फांसी

आखिरकार लम्बे इंतजार के बाद कानूनी दांव-पेंचों के बीच से निकलते हुए निर्भय केस के चारों गुनाहगारों को फांसी दे दी गयी। इन चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में फांसी दी गयी।

फांसी देने के बाद निर्भया की मां ने मीडिया से कहा कि 7 साल का संघर्ष था, आज का दिन हमारी बच्चियों-महिलाओं के नाम। उन्होंने सरकार का, न्यायपालिका का भी धन्यबाद दिया और माँग की कि आगे सुप्रीम कोर्ट ऐसा आदेश दे जिससीक से अधिक दोषियों की दिए याचिका और अपील एक साथ ही हो जिससे न्याय मिलने में देरी न हो।

हम आपको बता दें 2014-15 में अफजल की फांसी के समय सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार यह पहला ऐसा मामला है जिसमे फांसी की तारीख और समय सभी को पता थी। पहला ऐसा केस है जिसमे परिजनों को भी सूचना थी।

फांसी के बाद आधा घण्टा तक उनके शव फंदे पर झूलते रहे फिर शव उतारे गए और वहां मौजूद डॉक्टर्स की टीम उनका चेक अप करके मृत घोषित कर दिया है। अब इनके शवों को दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम के लिए भेजा जाएगा।

पवन जल्लाद को एक फांसी के लिए 15000 रुपये मिलेंगे। पवन जल्लाद ने एक गुनाहगार को फांसी दी जबकि बाकियों को जेल के स्टाफ ने फांसी दी है। एक तख्ती पर दो लोगों को खड़ा किया गया था इस फांसी में।

चारों गुनहगारों में से तीन मुकेश, पवन और विनय ने जेल में श्रम किया है जिसका पैसा जनके खाते में जमा है और उसे उनके प्रिजजनों को दे दिया जाएगा।

आपको हम बता दें कि 16 दिसंबर 2012 को अपने मित्र के साथ जा रही एक पैरामेडिकल छात्रा के साथ एक निजी बस में छह लोगों ने बर्बरतापूर्वक सामूहिक दुष्कर्म करने और क्रूरतापूर्ण हमला करने बाद उसे जख्मी हालत में उसके दोस्त के साथ चलती बस से बाहर फेंक दिया गया। पीड़ितों को सफदरगंज अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसके बाद पूरा देश न्याय के लिए सड़क पर उमड़ गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *