वेलिंग्टन। कोरोना वायरस के संदिग्ध लक्षण वाले यात्री के गोल्डन प्रिंसेस क्रूज जहाज पर सवार होने के कारण न्यूजीलैंड बंदरगाह पर रविवार को इस जहाज के यात्रियों को उतरने से रोक दिया गया। स्वास्थ्य अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
बंदरगाह की जहाज सूची के मुताबिक, क्राइस्टचर्च के साउथ आइलैंड शहर के पास अकारोआ में लंगर डालने वाले जहाज पर 2600 यात्री और चालक दल के 1100 सदस्य सवार हैं।

न्यूजीलैंड के स्वास्थ्य महानिदेशक एशले ब्लूमफील्ड ने कहा कि जहाज के चिकित्सक ने तीन यात्रियों को पृथक किया है। इनमें से एक यात्री में कोविड-19 के लक्षण हैं और इसका संदिग्ध मामले के तहत इलाज किया जा रहा है।
ब्लूमफील्ड ने कहा, नतीजे सामने आने तक किसी भी यात्री को जहाज छोड़ने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
गोल्डन प्रिंसेस जहाज को लेकर आगे क्या कदम उठाए जाएंगे, इस बारे में फैसला सोमवार को तीनों यात्रियों के जांच नमूनों के नतीजे सामने आने के बाद लिया जाएगा।

शनिवार को ही न्यूजीलैंड ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को, यहां पहुंचने के बाद 14 दिनों के लिए पृथक रखे जाने की घोषणा की थी।
अभी तीन दिन पहले ही गोल्डन प्रिंसेस क्रूज ने कोरोना वायरस महामारी के कारण 30 जून तक दुनिया भर में अपनी यात्राओं को निलंबित करने की घोषणा की थी, जिसके बाद यह घटनाक्रम सामने आया है।
इससे पहले भी प्रिंसेस क्रूज के दो जहाजों को कोरोना वायरस के कारण पृथक रखना पड़ा था। डायमंड प्रिंसेस को जापान में जबकि ग्रांड प्रिंसेस को कैलिफोर्निया में पृथक खड़ा किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here