नई दिल्ली: नागरिकता कानून के विरोध में देश के कई जगहों पर भारी विरोध-प्रदर्शन हो रहा हैं। देश में गुरुवार को भी तनाव के हालत देखने को मिले। इन हालातों को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंत्रालय की बड़ी बैठक बुलाई है। आपात बैठक में अजित डोभाल, गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी और केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला हिस्सा लेंगे। जानकारी के मुताबिक़ बैठक में गृह मंत्रालय द्वारा देश की मौजूदा स्थिति की समीक्षा की जाएगी।

वही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र पर प्रहार करते हुए कहा की गुरुवार को बीजेपी की स्थापना 1980 में हुई थी और वह हमारे 1970 के नागरिकता दस्तावेज मांग रही है। भाजपा अपने कार्यकर्ताओं के लिए टोपी खरीद रही है जो एक विशेष समुदाय को बदनाम करने के लिए इन्हें पहनकर संपत्तियों को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

ममता ने आगे कहा कि अगर तुम हारते हो तो तुम्हें इस्तीफा देकर जाना होगा। ममता ने कहा कि मैं तुमको चुनौती देती हूं देश को फेसबुक और सांप्रदायिक दंगों का इस्तेमाल कर विभाजित करने की कोशिश मत करो। ममता बनर्जी ने कोलकाता की रैली में कहा कि हम इस देश में दूसरों की दया पर नहीं रह रहे हैं। ममता ने कहा अगर बीजेपी में हिम्मत है तो उसे संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी पर संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में जनमत संग्रह कराना चाहिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here