वाराणसी की भ्रष्टाचार निवारण संगठन की टीम ने घूस लेते हुए एक दरोगा को रंगेहाथ धर दबोचा। हुआ यूं कि हंसराजपुर के चौकी इंचार्ज रामविराज सिंह पर हरदासपुर निवासी रुदल कुमार पुत्र शिवमुनि राम ने मारपीट के एक मामले में मेडिकल के आधार पर धारा बढ़वाने के लिए 20 हजार रूपए मांगने का आरोप लगाया था। पीड़ित ने बताया कि उन्होंने चौकी इंचार्ज से कहा कि वो इतना पैसा देने में वह असमर्थ है किन्तु चौकी इंचार्ज अड़े रहे। जिसके बाद तंग आकर रुदल ने इसकी लिखित शिकायत वाराणसी स्थित भ्रष्टाचार निवारण संगठन के अधिकारियों से कर दिया।

इसके बाद पूरी प्लानिंग के साथ मंगलवार को एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम रुदल के हाथों केमिकल लगे 20 रूपए चौकी इंचार्ज रामविराज सिंह को दिलवाए और फिर जैसे ही उन्होंने रूपए थामे, वहां सादे कपड़ों में मौजूद टीम के प्रभारी सुरेंद्रनाथ दूबे ने उन्हें धर दबोचा और फिर दरोगा के हाथ को धुलवाया तो वो लाल हो गया। इसके अलावा टीम ने दरोगा की जेब से रिश्वत का रूपया भी बरामद करके उन्हें गिरफ्तार करके नंदगंज थाने लाए और आगे की कार्रवाई की। इस मौके पर टीम में इंस्पेक्टर संतोष कुमार दीक्षित, उपनिरीक्षक ओम प्रकाश यादव, मुख्य आरक्षी नरेंद्र कुमार सिंह, विजय नारायण प्रधान, आरक्षी सुनील कुमार यादव, सुमित कुमार भारती व अश्वनी कुमार पांडेय मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here