उत्तर प्रदेश गाजीपुर ताजातरीन बाराचवर संत ग़ाज़ीपुर

ब्रह्मलीन संत वेणीमाधव दास महाराज की 15वीं पुण्यतिथि शिष्यो द्वारा सिद्दत के साथ मनाया गया

बाराचवर: महर्षि विश्वामित्र की पौराणिक धर्मनगरी बक्सर के ब्रह्मपुर क्षेत्र में श्रीराम मंदिर शान्ति धाम उधुरा के संस्थापक ब्रह्मलीन संत वेणीमाधव दास महाराज के 15 वी पुण्यतिथि पर उनके शिष्यों एवम भक्तो के द्वारा बहुत ही श्रद्धा पुर्ण तरीके से एवम बहुत शिद्दत के साथ याद किया गया। इस माैके पर अयोध्या से पधारे श्री श्री 1008 महामंडेलश्वर शिवरामदास महाराज उपाख्य फलाहारी बाबा व भक्तगणों ने संत वेणीमाधव दास जी मूर्ति पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए उन्हें नमन किया और उनके कृतित्व-व्यक्तित्व पर प्रकाश भी डाला।

इस अवसर पर आश्रम के वर्तमान महन्त भरतदास महाराज ने कहा कि संत वेणीमाधव दास महाराज का भिवानी में विशिष्ट स्थान था। लाेग आपका बहुत ही आदर पूर्वक सम्मान करते थे। विद्वता में गुरु जी अपने आप में महान थे।आपका कोई जोड नहीं था आप अपने आप में अद्भुत एवम बेजोड थे।मुझे खुशी है की मुझे अपने सद्गुरु की सेवा करने का और उनके सामिप्य और सानिध्य में रहने का सुअवसर मिला था।मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय मेरे गुरूवर की सेवा में समर्पित रहा।

देश के हर प्रान्तों में उनके शिष्य है। गुरूदेव ने उधुरा में एक विशाल आश्रम की स्थापना की, जिसकाे मैं उनके आशिर्वाद से उनके पदचिन्हाें पर चलकर आगे बढ़ा रहा हूं और मन्दिर के उत्तराेत्तर विकास के लिए आजीवन संकल्पित भी हूं।

भरत दास जी ने अपने गुरूदेव के बारे में अश्रुपूरित नयनों एवम रूधे गले से कहा की हमारे गुरुदेव ने मुझे वो सब कुछ दिया जो अपने सांसारिक जीवन में मै कभी प्राप्त नही कर पाता।एक गरीब बालक को फर्श से उठाकर अर्श पर पहुंचा दिया।आपने दो कमरे के मकान में रहने वाले को इतने बडे सुसज्जित धार्मिक स्थल का प्रमुख बना कर मुझे भगवत कार्य से जोड दिया।उन्होंने सदा राम और गुरु का आश्रय लेने को कहा।

श्री 1008 महामंडेलश्वर शिवरामदास महाराज उपाख्य फलाहारी बाबा ने कहा कि अपने कर्मो से बनायी हुई कीर्ति ही मनुष्य को अमर बनाती है

त्याग और परमार्थ का जीवन ही समाज का कल्याण करता है।आपने कहा की गुरू का महत्व एवम गुरू के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता।गुरू की महिमा अनंत है। गुरु बहुत कुछ देता है किन्तु सद्गुरु के माध्यम से मनुष्य को सबकुछ मिल जाता है। उन्होंने कहा की यहां दशहरे के दिन से सत्संग प्रारम्भ होगा जो प्रत्येक दिन शाम को चलाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *