गाजीपुर ताजातरीन ग़ाज़ीपुर

पौधरोपण कर नवभारत पत्रकार एसोसिएशन के संस्थापक की मनाई गई प्रथम पुण्यतिथि

बाराचवर– करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के पतार स्थित गंगेश्वर नाथ महादेव के मंदिर पर स्व०डा० एन के सिंह वरिष्ठ पत्रकार. संस्थापक नव भारत पत्रकार एसोसिएशन की प्रथम पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि कार्यक्रम एवम पौधारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।कार्यक्रम का शुभारम्भ स्व०डा०एन के सिंह के चित्र पर माल्यार्पण एवम पुष्पांजलि अर्पित कर किया गया।कार्यक्रम में जेपी राय.सोमदत्त कुशवाहा. श्याम बहादुर राय समेत अन्य लोगों के द्वारा संबोधित किया गया।सभी ने स्व०डा०एन के सिंह के जीवन पर प्रकाश डाला गया।सोमदत्त कुशवाहा ने कहा की डा०एन के सिंह के बारे में जो भी कहा जाये जितना कहा जाये कम है।श्याम बहादुर राय ने भी स्व० डा० साहब के बारे में बिस्तार से चर्चा करते हुवे कहा की डा०एन के सिंह सदैव क्षेत्र के विकास के बारे में सोचते थे।राजापुर में नव निर्मित चिकित्सालय को जिलाधिकारी गाजीपुर से वार्ता कर के रात को बारह बजे चालू कराया था।राजेश कुशवाहा ने कहा की डा०एन के सिंह अद्भुत व्यक्तित्व के धनी ब्यक्ति थे।डा० साहब कभी किसी में छोटा बडा का भेद नहीं करते थे।उनके बारे में कुछ कहना सूरज को रोशनी दिखाना है।उनके ब्यक्तित्व में आकर्षण था जादू था।डा० रजनीश राय ने कहा की मै सोच नहीं पा रहा हूं की कहां से शुरू करूं।समाज के लिए उनका ब्यक्तित्व प्रेरणादायक था।समाज के लिए कुछ करने की सदैव उनके अंदर एक जुनून रहती थी। अपने संबोधन में कृपा शंकर सिंह ने कहा की एक दबंग आवाज शान्त हो गयी एक निर्भिक ब्यक्तित्व हम सबकी आंखो से ओझल हो गया।जो आत्मीयता डा०एन के सिंह से जो मुझे मिली उसका मै आजीवन ऋणी। हूं।आज जब भी कभी कोइ मौका आता है तो उनकी याद अवश्य आती थी।मंजिल तक पहुचने से पहले डा० एन के सिंह रूकने वाले नहीं थे।चाहे राह में कितने भी मुश्किल आये।ब्यक्ति अपने कर्मों के बल पर ही महान होता। है।उनके अंदर सभी के लिए अपनत्व का भाव रहता था।उनका व्ययक्तित्व और कृतित्व सदैव याद किया जायेगा।राम चन्द्र सिंह पत्रकार ने कहा की डा० एन के सिंह किसी भी परिस्थिति में विचलित नहीं होते थे।उनसे मुझे काफी आत्म बल मिलता था।सुरेश सिंह ने भी अपने संबोधन में कहा की डा० एन के सिंह के निधन पर सहारा इंडिया के द्धारा दो लाख उनहत्तर हजार का चेक और पन्द्रह वर्ष तक हर माह भी पचहत्तर सौ रूपया मिलता रहेगा।अपने संबोधन में नर्वदेश्वर राय पूर्व प्रधानाचार्य ने कहा की रघुकुल रीति सदा चली आई.प्राण जाहि पर वचन न जायी। डा० एन के सिंह स्वच्छता अभियान के एक मिशाल और बहुुत ही बडे पर्यावरण प्रेमी थे।मैने इतना सहज और सरल व्यक्तित्व अभी तक नहीं देखा।अपने गुरूजनों के प्रति उनके अंदर बहुुत सम्मान था।बहुत ही मधुर और लोच व्यक्तित्व था।उनके डिक्शनरी में शिकन नाम का शब्द नहीं था।उनकी एक बहुत ही प्रिय कविता थी जो स्व० अटल जी के द्वारा लिखी गयी थी आओ मिल कर दिया जलाएं।कार्यक्रम में नर्वदेश्वर राय पूर्व प्रधानाचार्य द्वारा अध्यक्षता की गयी।कार्यक्रम का संचालन रिजनल कोआर्डिनेटर सहारा इंडिया सुरेश सिंह के द्वारा किया गया।कार्यक्रम के अंत में उपस्थित लोगों के द्वारा पौधारोपण किया गया।इस कार्यक्रम में कृपा शंकर सिंह जिलाध्यक्ष भारतीय किसान सभा.श्याम बहादुर राय.सोमदत्त कुशवाहा.डा० रजनीश राय.देवेन्द्र सिंह देवा.राम चन्द्र सिंह पत्रकार. दिनेेश राय गुड्डू. ब्रजभूषण राय टुनटुन.विपिन विहारी सिंह टुनटुन.रविन्द्र यादव ब्रांच मैनेजर सहारा इंडिया बाराचंवर. सन्तोष राय ब्रांच मैनेजर सहारा इंडिया दुबिहां मोंड.रविन्द्र यादव पत्रकार.राजेश कुशवाहा. शम्भू तिवारी. सुभाष सिंह.पवन सिंह.अक्षय कनौजिया. जे पी राय.समेत ढेर सारे लोग उपस्थित रहे।सभी उपस्थित लोगों के प्रति आभार बिक्रम बहादुर सिंह रानू के द्वारा ब्यक्त किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *