बाराचवर-स्थानीय बाजार के चौराहे पर क्रांतिकारी पूर्व विधायक रामइकबाल सिंह लखनेश्वर डीह के मंदिर से भगवान शिवजी व विष्णुजी का आशीर्वाद लेकर अपने हजारों समर्थको के साथ शहीद सेनानी सम्मान पदयात्रा के साथ सायं पहुंचे तथा समर्थको को संबोधित करते हुवे कहा कि शहीदों का सम्मान उनका इतिहासअपने नई पीढ़ी को बताना जरूरी है क्योंकि हम पाश्चात्य सभ्यता को अपनाते जा रहे हैं, जो हमारे नई पीढ़ी को खराब कर रहे है।गूगल पर चल रहे पोर्न विडियो को रोकने की मुहिम छेड़ी है।जिसमें आप की सहयोग की आवश्यकता है।यह यात्रा शहीदों का जो सम्मान यात्रा नगरा से नगवा मंगल पांडेय के घर तक पहली यात्रा 18 मार्च को गयी,दूसरा 29अगस्त को मंगल पांडेय के घर से यात्रा30 अगस्त को शाहीद कौशल किशोर की शहीदी धरती बैरिया पाहुंचीं।तीसरा चरण 11अक्टूबर शहीद कौशल किशोर की समाधि स्थल बैरिया से जयप्रकाश नारायण की जन्मस्थली तक पहुची।चौथी और अंतिम यात्रा लखनेश्वर डीह मंदिर से बाराचवर प्रवास के मुख्य उद्देश्य चौराहे पर मारे गए अविनाश सिंह और दंतेवाड़ा में शहीद जवान जयप्रकाश पासवान को श्रद्धांजलि दी जाय और लोगो को इनका इतिहास याद रहे साथ ही यह यात्रा कल शहीद पार्क मोहम्मदाबाद में पूर्व विधायक कृष्णानंद राय की श्रद्धांजलि सभा मे पहुचकर श्रद्धा सुमन अर्पित की जाएगी तथा संकल्प लिया जाएगा कि जनता को अपराधियों और भरष्टाचारियो से मुक्त किया जाएगा।चुनावों के बाद प्रतिनिधि जो शून्य हो जाते हैं मौका मिले या न मिले तो भी हम लोगो के साथ रहेंगे।

इस अवसर दिवंगत मंडल उपाध्यक्ष स्व0 हीरालाल वर्मा के परिवार के साथ मिले औऱ अपनी सम्बेदना व्यक्त की तथा परिवार के साथ हर परिस्थिति में साथ रहने का भरोसा दिलाया है।इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य शहीदों और समाज के बीच अपनी अमित छाप छोड़ने वाले लोगो को याद करना तथा समाज मे नई पीढ़ी को अपने संस्कार और कर्तव्य याद दिलाना है।इस अवसर पर सैकड़ो भाजपा कार्यकर्ता अपने नेता का स्वागत किया।

इस अवसर पर ब्रजेंद्र सिंह, नन्दलाल सिंह, पूर्व जिला उपाध्यक्ष गीता शरण सिंह, राधेश्याम यादव,आशुतोष सिंह दीपकसंदीप सोनी,विनोद तिवारी,गुड्डू राजभर,हरेंद्र यादव,रामशिरोमणि तिवारी,अभिषेक सिंह,देवेंद्र सिंह, रमेश काका,चतुर्भुज सिंह, वीरेंद्र राय, पारस सिंह, बाल्मीकि सिंह कुशवाहा,शिवजी सिंह विजयनारायन शर्मा,प्रभुनाथ राय, सूरज प्रजापति आदि लोग मौजूद रहे।अंत मे कार्यक्रम में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने का का आहवान ब्रजेन्द्र सिंह ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here